100 % पाइल्स का इलाज एक महीने में : Piles Treatment at Home in Hindi

पाइल्स का रामबाण इलाज कैसे करे

Home Remedies for Piles Treatment in Hindi : : पाइल्स का इलाज कैसे करे, ये आज हम आपको बताने वाले है| पाइल्स एक ऐसी बीमारी है, जिसके बढ़ने का ज़िम्मेदार हम खुद है| शर्म और झिझक के कारण हम इस बीमारी के बारे में दुसरो को नहीं बताते और ना ही इसका समय से इलाज कराते जिसके कारण ये बीमारी बढ़ती जाती है| अगर आप चाहे तो घर पर बिना दवा पाइल्स का इलाज कर सकते है| आइये जाने पाइल्स के इलाज के घरेलू उपाय| (जाने – बवासीर का इलाज)

Piles Treatment in Hindi

फ़ास्ट फ़ूड के अधिक सेवन और बिगड़ी हुयी जीवनशैली के कारण पाइल्स जैसी खतरनाक बीमारियां बढ़ती जा रही है| एक रिसर्च के अनुसार 50 % से अधिक लोग अपने जीवनकाल में कभी ना कभी इस गंभीर बीमारी का शिकार जरूर हुए है| पाइल्स का इलाज समय पर कराना बहुत जरुरी है| समय पर इलाज ना मिलने पर यह बीमारी खतरनाक रूप ले लेती है, ऐसे में इसका इलाज करना असंभव हो जाता है|

Contents

कुछ लोग शर्म के कारण इस बीमारी को दूसरे लोगो से नहीं बताते| ऐसे लोग डॉक्टर के पास जाकर इसका इलाज भी नहीं कराते| जिस कारण से पाइल्स की स्टेज बढ़ती जाती है| पाइल्स जितनी पुरानी होती है, मरीज को दर्द और तकलीफ उतनी ही अधिक होती है| इस बीमारी से बचने के लिए और इसके इलाज के दौरान मरीज को सही खान पान और अपनी जीवन शैली में सही परिवर्तन लाने की जरूरत होती है|

इस पोस्ट में हम आपको पाइल्स का आयुर्वेदिक और एलोपैथिक इलाज कैसे करे, इसके बारे में बताने वाले है| किसी भी बीमारी के इलाज में सही खान पान की बहुत अधिक भूमिका होती है| ऐसे में पाइल्स के इलाज के दौरान भी सही खान पान और सावधानी बरतना जरुरी है| आइये जाने Piles Ka Ramban Iaj और पाइल्स के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां|

पाइल्स का घरेलू इलाज (Piles Treatment at Home in Hindi)

पाइल्स का इलाज करे बादाम के तेल से (Piles Treated with Almond Oil in Hindi)

बाहरी पाइल्स होने पर बादाम के तेल का इस्तेमाल करने से काफी आराम मिलता है| बादाम के तेल में डीप टिशू अवशोषण और ठंडक प्रदान करने वाले गुण पाए जाते है| जिसके कारण यह बाहरी पाइल्स के इलाज में काफी मददकार है| पाइल्स से प्रभावित क्षेत्र में बादाम के तेल में भीगी रुई लगाए| ऐसा करने से इन्फ्लामेशन कम होता है और ऊतकों को नमी मिलती है| इस नुस्खे का इस्तेमाल दिन में दो से तीन बार करे| नियमित इसका इस्तेमाल करने से जलन और दर्द से भी राहत मिलती है|

बर्फ से करे पाइल्स का इलाज (Treating Piles With Ice in Hindi)

पाइल्स के इलाज के लिए बर्फ का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद है| बर्फ आसानी से मिल जाता है| आजकल हर घर में फ्रिज है, ऐसे में आप अपने घर पर भी बर्फ जमा सकते है| बर्फ के इस्तेमाल से गुदा में ब्लड वेसेल्स सिकुड़ जाती है| जिससे सूजन कम हो जाती है, और दर्द से तुरंत आराम मिलता है| बर्फ को इस्तेमाल करने के लिए बर्फ के टुकड़े को किसी सूती कपडे में बांध ले| अब इस कपडे में लिपटे इस बर्फ के टुकड़े को अपनी गुदा के मस्से पर 10 से 15 मिनट के लिए रखे| जब तक पाइल्स पूरी तरह ठीक ना हो जाये, तब तक इस घरेलू नुस्खे का दिन में कई बार इस्तेमाल करे| अगर आप चाहे, तो बर्फ को बिना कपडे में बांधे सीधे मस्से पर लगा सकते है|

जैतून का तेल पाइल्स का रामबाण इलाज (Olive Oil Treatment for Piles in Hindi)

जैतून के तेल का इस्तेमाल अधिकतर बाहरी पाइल्स के इलाज में किया जाता है| इस तेल में एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इन्फ्लामेट्री प्रॉपर्टीज मौजूद होती है| जो पाइल्स के इलाज में अहम भूमिका निभाती है| जैतून का तेल रक्त कोशिकाओं को लचीला बनाता है| जिसके कारण रक्त कोशिकाओं को सिकुड़ने में मदद मिलती है और वो आसानी से सिकुड़ जाती है| रक्त कोशिकाओं के सिकुड़ने से सूजन भी कम हो जाती है| जैतून के तेल में मौजूद मोनो-सैचुरेटेड फैट्स उत्सर्जन तंत्र की कार्यक्षमता को बढ़ाने का काम करते है|

पाइल्स होने पर रोजाना एक चम्मच जैतून के तेल का सेवन करे| पाइल्स के कारण होने वाले दर्द और सूजन को कम करने के लिए जैतून के तेल में बराबर मात्रा में बेर के पेड़ की पत्तियों का रस मिलाकर मस्सो पर लगाए| नियमित रूप से ऐसा करने से पाइल्स में आराम मिलता है|

पाइल्स के इलाज में एलोवेरा लाभकारी (Aloe vera Beneficial in Treating Piles in Hindi)

पाइल्स के इलाज के लिए एलोवेरा को सबसे अच्छी प्राकृतिक औषधि माना जाता है| एलोवेरा में अनेक प्रकार के चिकित्सीय और Anti-inflammatory गुण होते है| इन सभी गुणों के कारण ही एलोवेरा में दर्द, खुजली और जलन को कम करने की क्षमता होती है| आंतरिक और बाहरी दोनों प्रकार की पाइल्स के इलाज में एलोवेरा का इस्तेमाल किया जाता है|

आंतरिक और बाहरी पाइल्स में एलोवेरा को इस्तेमाल करने का तरीका अलग अलग होता है| आंतरिक पाइल्स में एलोवेरा की पत्ती को स्ट्रिप्स में काटकर फ्रिज में ठंडा होने के लिए रख दे| ठंडा होने के बाद इस ठंडी स्ट्रिप्स को पाइल्स प्रभावित क्षेत्र में लगाए|

अगर आपको बाहरी पाइल्स है, तो एलोवेरा की पत्तियों को काटकर उसका जैल निकाल ले अब इस जैल को अपनी गुदा पर लगाकर धीरे धीरे मालिश करे| ऐसा करने से जलन और दर्द में जल्दी ही आराम मिल जायेगा|

विच हेजल के फायदे पाइल्स में (Witch Hazel Benefits For Piles in Hindi)

विच हेजल का इस्तेमाल पाइल्स के इलाज में बहुत लाभकारी है| विच हेजल में मौजूद बंधनकारी और हीलिंग गुणों के कारण इसके इस्तेमाल से पाइल्स के कारण होने वाली सभी परेशानियां दूर हो जाती है| विच हेजल के बंधनकारी गुण के कारण इसके इस्तेमाल से सूजी हुयी रक्त कोशिकाएं सिकुड़ने लगती है| जिसके कारण दर्द, खुजली और सूजन जैसी प्रॉब्लम धीरे धीरे दूर हो जाती है|

पाइल्स के मरीज को रोजाना दिन में दो से तीन बार विच हेजल में रुई के टुकड़े को भिगोकर मस्सो पर लगाना चाहिए| इसके अलावा आजकल मार्किट में विच हेजल युक्त मेडिकेटेड पैड्स मिलते है| इन मेडिकेटेड पैड्स को आप टॉयलेट पेपर के साथ इस्तेमाल कर सकते है| इसके इस्तेमाल से गुदा में होने वाली खुजली दूर होती है और सूक्ष्मजीवों से भी आसानी से छुटकारा मिल जाता है|

नींबू का रस पाइल्स में लाभकारी (Beneficial in Lemon Juice Piles in Hindi)

नींबू पाइल्स को बढ़ने से रोकने में मदद करता है| नींबू के रस में मौजूद पदार्थ रक्त कोशिकाओं की दीवारों को मजबूत बनाने की क्षमता रखते है| नींबू का रस निकालकर एक कटोरी में रख ले| अब साफ़ कॉटन को नींबू के रस में डुबोये और मस्सो पर लगाए| मस्सो पर नींबू का रस लगाने से शुरुआत में थोड़ी जलन होती है, लेकिन उसके बाद दर्द से काफी राहत मिल जाती है| पाइल्स होने पर शहद में नींबू, अदरक और पुदीना का रस मिलाकर सेवन करे| नियमित रूप से ऐसा करने से पाइल्स बढ़ेगी नहीं और जल्दी ठीक भी हो जायेगी|

साबुत अनाज के लाभ पाइल्स में (Whole Grains Benefits for Piles in Hindi)

पाइल्स को बढ़ने से रोकने और पाइल्स का इलाज करा रहे लोगो को साबुत अनाज का सेवन करना चाहिए| साबुत अनाज और साबुत अनाज से बने प्रोडक्ट में भारी मात्रा में फाइबर पाया जाता है| फाइबर युक्त पदार्थ होने के कारण यह पाइल्स के लक्षणों (Piles Ke Lakshan) और ब्लीडिंग को रोकने में मदद करते है|

साबुत अनाज का सेवन करने से पेट ठीक तरीके से काम करता है| साबुत अनाज न्यूट्रिएंट जठरांत्र प्रणाली को साफ़ करते है, जिससे पेट से जुड़े रोग जैसे कब्ज आदि नहीं होते| जिन पदार्थो में फाइबर अधिक मात्रा में होता है, उनका सेवन करने से मल नरम होता है| जिससे मल त्यागने में अधिक दबाब नहीं लगाना पड़ता| जौ, मक्का, बाजरा, जई और भूरा चावल सबसे अच्छे साबुत अनाजों में आते है| इनका दलिया बनाकर भी सेवन किया जा सकता है|

पानी से करे पाइल्स का इलाज (Water Benefits for Piles in Hindi)

अगर आप पाइल्स के मरीज है, तो पानी की मात्रा पर विशेष ध्यान दे| पाइल्स के मरीज को पानी की मात्रा को बढ़ा देना चाहिए| कम से कम 8 से 10 गिलास पानी रोजाना पीने की आदत डाले| पानी पीने से पेट से जुडी सभी बीमारियां दूर हो जाएगी और त्वचा पर चमक आयेगी| पानी बॉडी को हाइड्रेट करता है और इससे इंटरनल सिस्टम भी साफ होता है| इसके साथ ही अधिक मात्रा में पानी पीने से मल नरम होता है, जिससे मल त्यागने में आसानी होती है|

पाइल्स का घरेलू इलाज करे सेब के सिरके से (Apple Cider Vinegar for Piles in Hindi)

सेब के सिरके का इस्तेमाल भी पाइल्स के इलाज में किया जाता है| सेब के सिरके बंधनकारी गुण पाए जाते है| बंधनकारी गुणों के कारण सेब के सिरके के इस्तेमाल से सूजी हुयी रक्त वाहिकाओं को सिकुड़ने में मदद मिलती है| जिसके कारण जलन और सूजन से बहुत राहत मिलती है| सेब के सिरके का इस्तेमाल बाहरी और अंदर की दोनों प्रकार की पाइल्स में लाभकारी होता है| अगर आप सेब के सिरके के परिणाम अधिक अच्छे पाना चाहते है, तो बिना जमे और बिना छने सिरके का इस्तेमाल करे|

अगर आपको अंदर की पाइल्स है, तो रोजाना दिन में दो बार एक गिलास पानी में एक चम्मच बिना छना सेब का सिरका मिलाकर पियें| अगर आपको सेब के सिरके का स्वाद पसंद नहीं, तो आप इसमें थोड़ी मात्रा में शहद भी मिला सकते है|

बाहरी पाइल्स होने पर सेब के सिरके में रुई का टुकड़ा भिगोकर मस्सो पर लगाए| मस्सो पर सेब का सिरका लगाने से शुरुआत में थोड़ी जलन और चुभन हो सकती है, लेकिन इसे लगाने के बाद जलन और खुजली से आपको काफी आराम मिलेगा|

पाइल्स का इलाज करे ब्लैक टी से (Piles Treatment for Black Tea in Hindi)

ब्लैक टी में टैनिन एसिड पाया जाता है| टैनिन एसिड में बंधनकारी गुण पाए जाते है, जिसके कारण ब्लैक टी के इस्तेमाल से दर्द और सूजन में राहत मिलती है| एक बर्तन में गर्म पानी करे| अब इस गर्म पानी में एक ब्लैक टी बैग डुबो ले| गर्म पानी से निकालकर इसे थोड़ा ठंडा होने दे| जब यह थोड़ा थोड़ा ठंडा रहे तब इसे सूजे हुए मस्सो पर लगाए| पाइल्स को ठीक करने के लिए इस नुस्खे को दिन में दो से तीन बार अपनाये|

पाइल्स के इलाज के आयुर्वेदिक नुस्खे (Piles Treatment Ayurvedic in Hindi)

1. पानी में शहद, अदरक, नींबू और पुदीना का रस मिलाकर रोजाना पीने से भी पाइल्स रोग ठीक हो जाता है|

2. पाइल्स के इलाज के लिए गाजर, पालक और चुकंदर के रस की बराबर मात्रा को मिलाकर रोजाना पियें|

3. पाइल्स के मरीज नियमित रूप से सुबह शाम करीब तीन महीने तक पकी जामुन का सेवन करे|

4. पाइल्स के इलाज के लिए 2 लीटर छाछ में जीरा पाउडर और अजवाइन मिलाकर रोजाना पियें|

5. पाइल्स को बढ़ने से रोकने के लिए नियमित रूप से जिमीकंद का सेवन गुड़ के साथ करे|

6. अगर आप पाइल्स का इलाज बिना दवा के करना चाहते है, तो रोजाना तिल के लड्डू खाये|

7. नारियल पानी, लस्सी, सुप, जूस और अन्य तरल पदार्थो का सेवन अधिक मात्रा में करे|

8. रोजाना दिन में दो से तीन बार उबले दूध में पका केला मिलाकर खाये|

9. रोजाना नीम का तेल मस्सो पर लगाने से जल्दी ही पाइल्स से छुटकारा मिल जायेगा|

10. पाइल्स को जड़ से खत्म करने के लिए रोजाना मूली का सेवन करे|

इस पोस्ट में आपने पाइल्स का रामबाण इलाज घर पर कैसे करे, इसके बारे में जाना| पाइल्स के इलाज और Cure of Piles in Hindi से जुडी ये पोस्ट आपको कैसी लगी, हमें कमेंट करके बताये| अगर आपके पास पाइल्स के इलाज का कोई अन्य घरेलू उपाय है, तो उसके बारे में भी आप कमेंट करके हमें बता सकते है| अगर आपका घरेलू नुस्खा हमें सही लगा तो हम उसे अपनी वेबसाइट पर जरूर पब्लिश करेंगे|

Disclaimer:- All content is good for health but you should take advice from Doctor before using them. We are not responsible for any harm.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

17 + 1 =