डेंगू / Dengue के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

डेंगू के लक्षण और डेंगू के उपचार के घरेलू उपाय : डेंगू बुखार वायरल इन्फेक्शन है| यह इन्फेक्शन एडीज अल्बोपिक्टस” और “एडीज इजिप्ती” नामक मच्छरों के काटने से फैलता है| डेंगू बुखार जानलेवा होता है| हर साल डेंगू बुखार से हजारो की संख्या में लोग मरते है| वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन के द्वारा की गयी रिसर्च के अनुसार हर साल 40 करोड़ से अधिक डेंगू के नए केस दर्ज होते है| (ये भी पढ़े – डेंगू फीवर क्या है)

Degu Symptoms & Treatment in Hindi

डेंगू बुखार होने की कोई उम्र नहीं| यह बीमारी किसी भी उम्र में किसी को भी हो सकती है| ये जानलेवा बीमारी बच्चो को भी अपना शिकार बना लेती है| डेंगू बुखार जानलेवा तब हो जाता है, जब इसका सही समय पर इलाज नहीं कराया जाता| अगर डेंगू के लक्षण पहचान कर. इसका सही समय पर इलाज शुरू कर दिया जाये, तो डेंगू बुखार पर काबू पाया जा सकता है|

इस पोस्ट में हम आपको डेंगू फीवर के लक्षण और डेंगू का घरेलू उपचार करना बतायेगे| तो चलिए पोस्ट को आगे बढ़ाये और जाने डेंगू फीवर के बारे में|

डेंगू के लक्षण (Degu Symptoms in Hindi)

1. बुखार के साथ तेज ठंड लगना
2. आँखों में दर्द होना
3. भूख कम या ना लगना
4. सर दर्द होना
5. लूस मोशन होना
6. जोड़ो और बदन में दर्द
7. उल्टी आना
8. शारीरिक कमजोरी
9. जी मिचलाना
10. डेंगू फीवर की स्थिति बिगड़ने पर नाक में से खून आने लगता है

डेंगू के कारण (Dengue Causes in Hindi)

डेंगू फीवर हवा, पानी और भोजन से फैलने वाला रोग नहीं है| यह फीवर डेंगू से संक्रमित व्यक्ति को एडीज इजिप्ती मच्छर के काटने के बाद फैलता है| जब यह मच्छर डेंगू से संक्रमित व्यक्ति को काटता है, तब इस मच्छर में डेंगू वायरस युक्त खून चला जाता है| अब यह मच्छर जिस किसी भी व्यक्ति को काटता है, उस व्यक्ति को डेंगू हो जाता है| इस प्रकार एडीज इजिप्ती मच्छर इस रोग को फैलाने का कारण है| एडीज इजिप्ती मच्छर के बारे में कुछ मुख्य जानकारी निम्न है|

1. डेंगू फैलाने वाला यह मच्छर दिन के समय अधिक सक्रिय रहता है|

2. ये मच्छर अधिक ऊंचाई तक उड़ने में समर्थ नहीं है|

3. इन मच्छर के शरीर पर धारियां बनी होती है|

4. जिन जगहो पर अँधेरा रहता है, ये मच्छर उन जगहो पर अधिक रहते है|

5. ये मच्छर छाँव वाले ठन्डे क्षेत्रों में रहना पसदं करते है|

6. डेंगू फ़ैलाने वाले मच्छर शांत पानी में प्रजनन करते है|

7. ये मच्छर गंदे जमा पानी में प्रजनन कम करते है|

8. पानी के सूखने के बाद भी इन मच्छरो के अंडे 12 महीने तक जीवित रह सकते है|

ये भी पढ़े – चिकनगुनिया के घरेलू उपचार
ये भी पढ़े – चिकनगुनिया के लक्षण

Dengu Ka Gharelu Upchar (Dengue Treatment in Hindi)

बकरी का दूध (Goat Milk) – बकरी का दूध डेंगू की बीमारी में बहुत लाभकारी है| डेंगू में प्लेटलेट्स तेजी से घटने लगती है| बकरी का दूध प्लेटलेट्स को तेजी से बढ़ाने की क्षमता रखता है| डेंगू के इलाज के लिए डेंगू के मरीज का थोड़ी थोड़ी मात्रा में बकरी का दूध पिलाना चाहिए| बकरी का दूध पीने से प्लेटलेट्स की संख्या तेजी से बढ़ने लगेगी और साथ ही जोड़ो में होने वाला दर्द भी ठीक हो जायेगा|

आंवला (Indian Gooseberry) – आंवला में विटामिन सी की अधिक मात्रा पायी जाती है| विटामिन सी शरीर की एब्जॉर्ब करने की शक्ति को बढ़ा देता है| जिसके कारण शरीर लोह तत्वों को अधिक और सही तरीके से एब्जॉर्ब कर पाता है| डेंगू के मरीज को रोजाना आंवला खाना चाहिए| आंवले का ताजा जूस पिने से अधिक लाभ होगा|

धनिया पत्ती (Coriander Leaves) – डेंगू बुखार को कम करने के लिए धनिया पट्टी का इस्तेमाल करे| डेंगू बुखार को कम करने के लिए धनिये की पत्तिया टॉनिक का काम करती है| डेंगू बुखार होने पर धनिया पट्टी का रस निकालकर दिन में दो से तीन बार पियें|

मेथी के पत्ते (Fenugreek Leaves) – डेंगू बुखार को ठीक करने के लिए मेथी का इस्तेमाल करे| मेथी के पत्तो को एक गिलास पानी में डालकर तब तक उबाले जब तक पानी आधा ना रह जाये| अब इस पानी को छानकर ठंडा करके डेंगू के मरीज को चम्मच से पिलाये| मेथी की ये हर्बल चाय डेंगू बुखार को ठीक करने में सहायक है| मेथी शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थो को बाहर निकालने में सहायक है|

तुलसी (Basil) – तुलसी भी डेंगू बुखार में लाभकारी है| एक कप पानी में 10 से 12 तुलसी की पत्तियां डालकर जब तक उबाले, जब तक पानी आधा कप ना हो जाये| अब इस पानी को छानकर ठंडा करके डेंगू के मरीज को दे| डेंगू फीवर में दिन में दो से तीन बार तुलसी का ये घरेलू नुस्खा अपनाने से डेंगू में आराम होगा|

पपीते की पत्ती (Papaya Leaves) – पपीते की पत्तियां डेंगू बुख़ार के इलाज के लिए गुणकारी दवा का काम करती है| पपीते की पत्तियों में पपेन एंजाइम पाया जाता है| यह पपेन एंजाइम पाचन शक्ति को बढ़ाने और प्रोटीन को शरीर में खोलने का काम करता है| डेंगू का इलाज करने के लिए पपीते की पत्तियों का रस निकालकर एक एक चम्मच करके रोगी को पिलाये| इससे डेंगू बुखार में आराम मिलेगा और प्लेटलेट्स की संख्या भी तेजी से बढ़ने लगेगी|

चिरायता (Chirayta) – डेंगू बुखार को ठीक करने के लिए आप चिरायता का इस्तेमाल भी कर सकते है| चिरायता में मौजूद गुण डेंगू को ठीक करने में सहायक है|

संतरे का जूस (Orange juice) – संतरे में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है| जिसके कारण संतरे के सेवन से पाचन शक्ति और शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है| अगर आपको डेंगू है, तो संतरे का जूस पियें|

बाबा रामदेव डेंगू ट्रीटमेंट (Baba Ramdev Dengue Treatment in Hindi)

बाबा रामदेव की यह घरेलू दवा भी डेंगू के इलाज में सहायक है| एक गिलास पानी में तुलसी की 7 से 8 पत्तियां और गिलोय पीसकर काढ़ा बना ले| अब इस काढ़े की थोड़ी थोड़ी मात्रा चम्मच से करके रोगी को पिलाये| इस काढ़े के अलावा पानी में रोजन तीन से चार चम्मच एलोवेरा का जूस मिलाकर पियें| इन दोनों नुस्खों के इस्तेमाल से आप डेंगू सही अनेक कई रोगो से शरीर को बचा सकते है| बाबा रामदेव की ये आयुर्वेदिक औषधि डेंगू के सही स्वाइन फ्लू और चिकनगुनिया के इलाज में सहायक है|

डेंगू से बचने के उपाय (Dengue Se Bachne ke Tarike)

1. विटामिन सी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और साथ ही बीमारियों के संक्रमण को फैलने से रोकता है, इसीलिए डेंगू से बचने और खुद को स्वस्थ रखने के लिए आपको विटामिन सी युक्त चीजों का सेवन करना चाहिए|

2. अगर आप डेंगू से बचना चाहते है, तो शहद और तुलसी का सेवन करे| तुलसी और शहद में डेंगू से बचाव के गुण होते है| पानी में तुलसी की पत्तिया उबाले और उस पानी को छानकर उसमे शहद मिलाकर पियें|

3. हल्दी में अनेक प्रकार के एंटीबायोटिक तत्व पाए जाते है| ये तत्व शरीर के Immune system को मजबूत बनाते है| डेंगू से बचने के लिए हल्दी का सेवन करना चाहिए| हल्दी वाला दूध पीना अधिक लाभकारी है|

4. घर के अंदर या बाहर कही पर भी पानी जमा ना होने दे| डेंगू के मच्छर पानी में पनपते है|

5. घर का बना कम चिकनाई और मशालेदार भोजन करे| यह डेंगू से बचाव और स्वस्थ जीवन के लिए जरुरी है|

इस पोस्ट में आपने Dengue Bukhar Ke Lakshan और Dengue Ke Gharelu Upchar के बारे में जाना| आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी, हमें कमेंट करके बताये| अगर आप इस पोस्ट से जुड़ा कोई भी सवाल हमसे पूछना चाहते है, तो कमेंट के माध्यम से अपना सवाल हमसे पूछ सकते है| ऐसी अन्य पोस्ट पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट को रोजाना पढ़े|

ये भी पढ़े – थायराइड के लक्षण
ये भी पढ़े – थायराइड का इलाज

Disclaimer:- All content is good for health but you should take advice from Doctor before using them. We are not responsible for any harm.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen − two =