Breast Cancer Early Symptoms in Hindi – स्तन कैंसर के शुरूआती लक्षण

Warning Signs of Breast Cancer in Hindi

Breast Cancer Symptoms And Signs in Hindi : इस पोस्ट में हम आपको स्तन कैंसर के लक्षण, कारण और इलाज के बारे में बतायेगे| अंग्रेजी में स्तन कैंसर को ब्रेस्ट कैंसर (Breast Cancer) कहते है| ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण और इसके इलाज के बारे में जानने से पहले, आपको यह पता होना चाहिए, कि ब्रेस्ट कैंसर क्या है , और यह क्यों होता है| तो चलिए जाने ब्रेस्ट कैंसर की पूरी जानकारी हिंदी में| (ये भी पढ़ेगर्भाशय कैंसर के लक्षण )

Breast Cancer in Hindi

स्तन कैंसर (Breast Cancer in Hindi)

स्तन के किसी भी हिस्से में कोशिकाओं का असामान्य विकास होना स्तन कैंसर अर्थात ब्रेस्ट कैंसर का कारण होता है| ब्रेस्ट कैंसर दूध पैदा करने वाले ग्रंथिहीन ऊतकों और छोटे छोटे कोशों और दूध ले जाने वाली नालियों में भी हो सकता है| ब्रेस्ट कैंसर बहुत तेजी से फैलने वाली खतरनाक बीमारियों में से एक है|

ब्रेस्ट कैंसर किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन अधिकतर यह खतरनाक बीमारी 40 साल पार कर चुके उम्रदाज लोगो में देखने को मिलती है| ब्रेस्ट कैंसर के बारे में अधिक जानकारी ना होने के कारण यह कैंसर दुगनी तेजी से फ़ैल रहा है| ब्रेस्ट कैंसर के प्रति लोगो की जागरूकता को बढ़ाने के लिए हर साल अक्टूबर महीने में ब्रेस्ट कैंसर वीक मनाया जाता है|

ब्रेस्ट कैंसर के कारण (Breast Cancer Kyu Hota Hai)

स्तन कैंसर 99 % महिलाओ को होता है| महिलाओ की मृत्यु का यह दूसरा सबसे बड़ा कारण है| अगर आप ब्रेस्ट कैंसर से बचाव चाहती है, तो आपको इसके होने के कारणों का पता होना चाहिए| एक शोध के अनुसार ब्रेस्ट कैंसर के बारे में जानकारी होना, इसके इलाज और बचाव में मुख्य भूमिका निभाता है| यहाँ हम आपको ब्रेस्ट कैंसर होने के कुछ मुख्य कारण बता रहे है| इन कारणों को जानकर आप खुद को स्तन कैंसर के खतरे से बचा सकते है|

अनुवांशिक (Genetic) – स्तन कैंसर अनुवांशिक भी होता है| अनुवांशिक अर्थात अगर आपके परिवार में किसी को भी स्तन कैंसर है, तो आपको यह बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है| 10 % स्तन कैंसर अनुवांशिक ही होता है|

गर्भाशय कैंसर (Uterine cancer) – गर्भाशय कैंसर भी स्तन कैंसर का कारण है| जिन महिलाओ को गर्भाशय कैंसर है, या पहले कभी गर्भाशय कैंसर रह चूका है, उनमे स्तन कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है|

रेडिएशन (Radiation) – रेडिएशन भी स्तन कैंसर का कारण है| ट्यूबरकुलोसिस या किसी अन्य बीमारी के कारण अधिक एक्स रे कराने वाली महिलाओ में स्तन कैंसर का खतरा सामान्य महिलाओ की तुलना में अधिक होता है|

धूम्रपान (Smoking) – जो महिलाये धूम्रपान और शराब जैसी नशीली चीजों का सेवन करती है, उन महिलाओ में स्तन कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है| इसके अलावा अगर आपके स्तन में लम्बे समय से कोई जख्म हो रहा है, तब भी आपको स्तन कैंसर होने के चांस बढ़ जाते है|

मासिक धर्म (Menstruation) – मासिक धर्म के समय से पहले होने और अधिक समय तक रहने से भी स्तन कैंसर हो सकता है| अगर आपको मासिक धर्म 12 साल से पहले शुरू हो जाता है, तो आपको स्तन कैंसर का खतरा बढ़ जाता है| 50 साल के बाद मासिक धर्म होने पर भी स्तन कैंसर का खतरा पैदा हो जाता है|

अधिक उम्र बच्चे करना – जो महिलाएं 35 से 40 साल के बाद बच्चे पैदा करती है, या जिन महिलाओ के बच्चे नहीं होते, उनमे स्तन कैंसर का खतरा अधिक हो जाता है|

ये भी पढ़े – बोन कैंसर के लक्षण
ये भी पढ़े – पेट के कैंसर के लक्षण

ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण (Sign of Breast Cancer in Hindi)

स्तन कैंसर जिसे अंग्रेजी में Breast Cancer कहते है, यह एक खतरनाक बीमारी है| लेकिन अगर समय पर ब्रैस्ट कैंसर सिम्पटम्स को पहचान लिया जाये, तो इसके इलाज में आसानी हो जाती है| यहाँ हम आपको Stan Cancer Ke Lakshan बता रहे है, इन लक्षणों को जानने के बाद आप घर पर ही Breast Cancer Ki Pehchan कर पायेगी| तो चलिए जाने, स्तन कैंसर के लक्षण क्या है ?

  • कांख या स्तन में गांठ
  • गांठ का आकर बढ़ना
  • कांख में सूजन आना
  • स्तनों में दर्द
  • स्तनों में खरोच आना
  • स्तनों को अधिक मुलायम या सख्त होना
  • स्तनों के आकर में बदलाव
  • स्तनों का रंग बदलना
  • स्तनों से खून आना

ब्रेस्ट कैंसर से बचने के टिप्स (Breast Cancer Prevention Tips in Hindi)

1. स्क्रीनिंग के माध्यम से समय समय पर डॉक्टर से अपने स्तनों की जाँच कराती रहे|

2. अपने स्तनों की खुद जाँच करती रहे|

3. योग और व्यायाम नियमित रूप से करे|

4. मोटापा इस कैंसर के खतरे को बढ़ा देता है, इसीलिए अपने वजन को कण्ट्रोल रखे|

5. शराब और सिगरेट जैसी नशीली चीजों का सेवन ना करे|

6. माँ बनने के बाद 9 महीने तक बच्चे को दूध पिलाये|

7. तनाव मुक्त रहे और पूरी नींद ले|

8. अधिक उम्र में बच्चे पैदा ना करे

9. अधिक एक्सरे ना कराये|

ब्रेस्ट कैंसर में क्या खाये (Breast Cancer Diet Chart in Hindi)

लहसुन (Garlic) – लहसुन में flavonols, flavones और सल्फर कंपाउंड पाए जाते है, ये सभी ब्रेस्ट कैंसर के खतरे को कम कर देते है| अगर आप स्तन कैंसर से पीड़ित है, तो रोजाना सुबह खाली पेट एक लहसुन चबाकर खाये| ध्यान रहे अगर आप किसी भी तरह की दवा ले रही है, तो लहसुन का सेवन करने से पूर्व एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर ले|

अलसी (Flaxseed) – अलसी का सेवन भी ब्रैस्ट कैंसर में लाभकारी है| अलसी में मौजूद lignans Estrogen-dependent cancer को बढ़ने से रोकते है| अलसी और अलसी के तेल में ओमेगा-3 फैटी एसिड्स पाए जाते है| ओमेगा-3 फैटी एसिड्स शरीर की कैंसर सेल्स से लड़ने में मदद करता है| ब्रेस्ट कैंसर से पीड़ित महिलाओ को अपने भोजन में अलसी के तेल या अलसी के पाउडर का इस्तेमाल करना चाहिए| अलसी के अनेक स्वास्थ्य लाभ भी है|

हल्दी (Turmeric) – हल्दी में Curcumin नामक यौगिक पाया जाता है| यह यौगिक स्तन कैंसर पैदा करने वाली कैंसर सेल्स को बनने से रोकता है| हल्दी में एंटी-इन्फ्लामेट्री और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते है| जिसके कारण हल्दी ब्रेस्ट कैंसर को फैलने और इससे लड़ने में शरीर की मदद करती है| स्तन कैंसर के मरीज हल्दी का सेवन जरूर करे| रोजाना एक गिलास गर्म पानी में आधा चम्मच हल्दी मिलाये और पानी गुनगुना होने पर इसे पियें|

ध्यान रहे अगर आपको पित्ताशय की समस्या है या आप खून को पतला करने वाली दवाइयां ले रही है, तब इस घरेलू नुस्खे को ना अपनाये| यह नुस्खा ऐसे लोगो के लिए हानिकारक है|

सैल्मन मछली (Salmon Fish) – अगर आपको स्तन कैंसर है, तो आप अपनी डाइट में सैल्मन मछली शामिल करे| सैल्मन मछली में पाया जाने वाला ओमेगा-3 फैटी एसिड्स शरीर की Immunity को बढ़ाने के साथ साथ कैंसर सेल्स को बढ़ने से रोकते है| सैल्मन मछली में विटामिन डी और विटामिन बी12 भी पाया जाता है| सैल्मन मछली में पाए जाने वाले ये सभी तत्व कैंसर सेल्स को को बढ़ने से रोकते है|

अखरोट (Walnut) – अखरोट एक Nutritious फ़ूड है| अखरोट स्तन कैंसर को बढ़ने से रोकते है और साथ ही शरीर की इन्फ्लामेशन से लड़ने की क्षमता को बढ़ा देते है| एक शोध के अनुसार रोजाना 50 ग्राम अखरोट खाने से स्तन कैंसर होने का खतरा कम हो जाता है|

पालक (Spinach) – पालक में मौजूद lutein एंटीऑक्सीडेंट स्तन कैंसर के खतरे को कम कर देता है| इसके अलावा पालक में कैरोटीनॉयड और zeaxanthin तत्व भी पाए जाते है| ये तत्व शरीर में मौजूद फ्री रेडिकल्स को बाहर निकालने का काम करते है| इसीलिए हफ्ते में कम से कम दो बार पालक का सेवन करे|

टमाटर (Tomatoes) – टमाटर में लाइकोपीन नामक एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होता है| यह एंटीऑक्सीडेंट कैंसर पैदा करने वाली सेल्स को रोकता है, जिसके कारण टमाटर खाने से ब्रेस्ट कैंसर का खतरा कम हो जाता है| स्तन कैंसर से पीड़ित लोगो को रोजाना टमाटर का जूस पीना चाहिए| टमाटर का सेवन सलाद के रूप में या सब्जी में डालकर भी कर सकते है|

ब्रोकोली (Broccoli) – ब्रोकोली में ट्यूमर की ग्रोथ को रोकने का गुण होता है| ब्रोकोली में indole-3-carbinol तत्व पाया जाता है| यह तत्व कैंसर विरोधी होता है| इस तत्व को Cancer-Fighting Compounds भी कहते है| यह तत्व ट्यूमर को बढने से रोकता है| स्तन कैंसर से बचने के लिए रोजाना अपनी डाइट में ब्रोकोली को शामिल करे| ब्रोकोली को कच्चा खाने से लाभ अधिक मिलता है|

इस पोस्ट में आपने Breast Cancer Kya Hota Hai और Breast Cancer Ki Pehchan कैसे करे, इसके बारे में जाना| स्तन कैंसर से जुडी आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी, हमें कमेंट करके बताये| अगर आपको स्तन कैंसर से जुडी कोई और जानकारी चाहिए, तो उसके बारे में आप हमसे कमेंट करके बता सकते है| कमेंट करने के लिए पोस्ट के निचे बने कमेंट बॉक्स पे जाये|

ये भी पढ़े – जीभ के कैंसर के लक्षण
ये भी पढ़े – मुंह के कैंसर के लक्षण

Disclaimer:- All content is good for health but you should take advice from Doctor before using them. We are not responsible for any harm.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 − one =