हड्डियों का कैंसर या बोन कैंसर के लक्षण और बचाव

उपचार व बोन कैंसर के लक्षण

हड्डियों का कैंसर क्या होता हैं, और ये कैंसर किस प्रकार फैलता हैं, आज हम आपको इस बारे में विस्तार से बतायेगे| हड्डियों की असमान्य कोशिकाओ का अनियंत्रित होकर बढ़ना हड्डियों का कैंसर कहलाता हैं| हड्डी का कैंसर शरीर के किसी भी हिस्से में होता हैं| ये कैंसर शरीर के एक भाग से दूसरे भाग में फैलता हैं| बोन कैंसर बिना कैंसर वाला और कैंसरयुक्त दो प्रकार का होता हैं| (ये भी पढ़े – लीवर कैंसर के लक्षण)

Haddiyon Ka Cancer

उम्र के बढ़ने के कारण हड्डियों में अक्सर दर्द होने लगता हैं| बढ़ती उम्र में होने वाले इस दर्द को ऑस्टियोपोरोसिस कहते हैं| बुढ़ापे में शरीर की हड्डिया कमजोर हो जाती हैं, जिसके कारण शरीर में दर्द रहता हैं, लेकिन अगर कम उम्र में ही आपकी हड्डियों में दर्द रहने लगे, तो यह हड्डियों का कैंसर हो सकता हैं| बोन कैंसर अक्सर कम उम्र के लोगो में देखने को मिलता हैं, और इस रोग की अवस्था और इलाज भी मरीज की उम्र पर निर्भर करती हैं|

इस पोस्ट में हम आपको बोन कैंसर के प्रकार, बोन कैंसर के कारण, बोन कैंसर के लक्षण और बोन कैंसर से बचने के उपाय क्या क्या होते हैं, इसके बारे में बतायेगे| तो चलिए जाने हड्डियों के कैंसर के बारे में हिंदी में|

हड्डियों का कैंसर (Bone cancer in Hindi)

मेटास्टेटिक बोन केंसर (Metastatic Bone Cancer) – बोन कैंसर प्राइमरी और सेकेंडरी दो प्रकार के होते हैं| सेकेंडरी बोन कैंसर को ही मेटास्टेटिक बोन केंसर कहते हैं| कैंसर के अनेक प्रकार होते हैं| जब व्यक्ति को किसी भी अन्य प्रकार का कैंसर होता हैं, और उस कैंसर की कोशिकाएं व्यक्ति की हड्डियों तक फैलने लगती हैं, तो ये मेटास्टेटिक बोन केंसर कहलाता हैं|

प्राइमरी बोन कैंसर (Primary Bone Cancer) – वह कैंसर जो सीधे हड्डियों में फैलता हैं, प्राइमरी बोन कैंसर कहलाता हैं| अर्थात प्राइमरी बोन कैंसर होने का कारण कोई अन्य कैंसर नहीं होता| प्राइमरी बोन कैंसर हड्डियों में चोट लगने या फिर हड्डी फ्रैक्चर होने के कारण होता हैं| कभी कभी हड्डियों में चोट लगना भी बोन कैंसर का कारण बन जाता हैं|

हड्डियों के कैंसर के कारण (Causes of Bone Cancer in Hindi)

1. धूम्रपान केवल हड्डियों के कैंसर का कारण नहीं हैं, अपितु यह हमारे स्वास्थय के लिए भी बहुत . हानिकारक हैं| धूम्रपान करने से पेट, जीभ और मुंह का कैंसर भी होता हैं|

2. हड्डियों का कैंसर अनुवांशिक भी होता हैं, अर्थात अगर आपके घर या परिवार में किसी को भी हड्डी का कैंसर या किसी अन्य प्रकार का कैंसर रहा हैं, तो आपको बोन कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता हैं|

3. आपको जानकर हैरानी होगी कि आप जो एक्स–रे या सर्जरी कराते हैं, उनकी किरणों के खतरनाक असर से भी बोन कैंसर हो सकता हैं|

4. विटामित डी के कारण शरीर की हड्डियां कमजोर हो जाती हैं, जिससे कैंसर की खतरनाक कोशिकाएं आसानी से हमारी हड्डियों को प्रभावित करना शुरू कर देती हैं| इस प्रकार शरीर में विटामित डी की कमी भी कैंसर का बहुत बड़ा कारण हैं|

5. हड्डियों में चोट लगना, फ्रैक्चर होना या हड्डियों में मोच आने के कारण भी हड्डियों का कैंसर हो सकता हैं|

हड्डियों के कैंसर के लक्षण (Bone Cancer Symptoms in Hindi)

1. हड्डी में दर्द (Bone Pain) – हड्डियों के कैंसर का सबसे बड़ा कारण हैं, हड्डियों में बिना किसी कारण दर्द होना| अगर आप बूढ़े हैं, तो हड्डियों में दर्द होना नॉमर्ल हैं, लेकिन कम उम्र में हड्डियों का दर्द बोन कैंसर का लक्षण हैं| अगर आपको अपनी हड्डियों में दर्द हो, तो तुरंत एक बार डॉक्टर से मिले| बोन कैंसर पहले अधिकतर शरीर की बड़ी हड्डियों को अपनी जकड में लेता हैं|

ये भी पढ़े – गर्भाशय कैंसर के लक्षण
ये भी पढ़े – पेट के कैंसर के लक्षण

2. हड्डी का फैक्चर (Bone Factor) – बोन कैंसर शरीर की हड्डियों को बहुत कमजोर बना देता हैं| जिसके कारण थोड़ा सा भारी वजन उठाने या छोटी सी चोट लगने पर भी व्यक्ति की हड्डी में फैक्चर हो जाता हैं| बार बार हड्डियों का फैक्चर होना भी हड्डियों के कैंसर का लक्षण हैं|

3. जोड़ों में दर्द (Joint pain) – बढ़ती उम्र में जोड़ो में दर्द होना सामान्य हैं, लेकिन कम उम्र में बार बार जोड़ो में दर्द होना और जोड़ो को हिलाने या मोड़ने आदि में तकलीफ होना हड्डी के कैंसर का लक्षण हैं|

4. सूजन (Swelling) – ट्यूमर के आस पास वाले हिस्से में में दर्द होने के साथ साथ उस हिस्से पर सूजन का होना हड्डियों के कैंसर का लक्षण हैं| अगर आपको हड्डियों में दर्द के साथ साथ सूजन की समस्या हैं, तो इसे नजरअंदाज ना करे| ये बोन कैंसर हो सकता हैं, इसके लिए आपको डॉक्टर से परामर्श जरूर लेना चाहिए|

5. वजन घटना (Lose weight) – किसी बीमारी या भूख कम लगने के कारण अक्सर व्यक्ति का वजन कम होने लगता हैं, लेकिन अगर बिना किसी कारण आपका वजन तेजी से घट रहा हैं, तो इसे हल्के में ना ले और तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर से मिले| बिना कारण वजन कम होना बोन कैंसर का लक्षण हैं|

हड्डियों के कैंसर से कैसे बचे (Bone Cancer Prevention Tips in Hindi)

1. योग और व्यायाम की बात करे, तो जो लोग रोजाना योग और व्यायाम करते हैं, लेवल वही लोग लम्बे समय तक स्वस्थ जीवन जीते हैं| रोजाना योग और व्यायाम करने से आपका पूरा दिन अच्छा जाता हैं, और आप बोन कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी से भी बच सकते हैं|

2. अगर आप बोन कैंसर से बचना चाहते हैं, तो रोजाना दूध पियें| दूध पीने से हड्डिया मजबूत होती हैं, जिससे बोन कैंसर होने का खतरा कम हो जाता हैं| दूध से बनी चीजे जैसे दही, पनीर, लस्सी का सेवन करने से भी फायदा होगा|

3. धूम्रपान, तम्बाकू और गुटके का सेवन कैंसर का सबसे बड़ा कारण हैं, इसीलिए इन नशीली चीजों का सेवन आज ही बंद करे| ये आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है|

4. हड्डियों के कैंसर का मुख्य कारण शरीर में प्रोटीन की कमी होना हैं, इसीलिए अगर आप चाहते हैं, कि आप बोन कैंसर के शिकार ना हो, तो अपनी डाइट में प्रोटीन युक्त आहार का सेवन करे| खाना बनाने में लिए आप प्रोटीन युक्त आयल का इस्तेमाल भी कर सकते हैं|

5. शरीर में विटामिन डी की कमी होना बोन कैंसर का सबसे बड़ा कारण हैं| विटामिन डी की कमी से हड्डियां कमजोर हो जाती हैं, जिससे कैंसर की कोशिकाओं को हड्डियों पर हमला करने में आसानी होती हैं| कमजोर हड्डियों वाले शरीर को बोन कैंसर जल्दी ही अपनी जकड में ले लेता हैं| विटामिन डी की कमी दूर करने का सबसे अच्छा उपाय हैं, सुबह की धुप में आधे से एक घंटे तक बैठना| इसके साथ ही विटामिन डी युक्त भोजन करे|

6. बोन कैंसर से बचने के लिए विटामिन, कैल्शियम और प्रोटीन युक्त ताजे फलो और पत्तेदार हरी सब्जियों का सेवन करे| ये पोषक तत्व आपके शरीर की हड्डियों को मजबूत करेंगे, जिससे आपको बोन कैंसर नहीं होगा|

आज हमने आपको हड्डियों का कैंसर होने का क्या कारण हैं, और इस खतरनाक और जानलेवा कैंसर से कैसे बना जाये, इसके बारे में जानकरी दी| आपको बोन कैंसर के बारे में हमारे द्वारा दी गयी, ये जानकारी कैसी लगी, हमें कमेंट करके जरूर बताये| अगर आप खुद के साथ साथ अपने दोस्तों को भी जागरूक करना चाहते हैं, तो पोस्ट को शेयर करना ना भूले|

ये भी पढ़े – कैंसर के प्रकार
ये भी पढ़े – जीभ के कैंसर के लक्षण

Disclaimer:- All content is good for health but you should take advice from Doctor before using them. We are not responsible for any harm.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 3 =