जानें गर्भावस्था में सोने के तरीके और सावधानियां

गर्भावस्था में सोने के तरीके क्या हैं

अगर आप माँ बनने वाली है, तो यह आपके और आपके परिवार वालो के लिए ख़ुशी की बात है| गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपने खान पान पर ध्यान देने के साथ नींद भी भरपूर लेनी चाहियें| गर्भावस्था की शुरूआती दिनी में महिलाओं को सोने में कोई तकलीफ नहीं होती, लेकिन जैसे जैसे उनके गर्भ का आकर बढ़ने लगता है, वैसे वैसे सोने पर कठिनाई होने लगती है| (ये भी पढ़े – गर्भावस्था में देखभाल)

Garbhavastha Me Sone Ke Tarike

महिलाएं पूरी नींद ले और साथ ही बच्चे का सही विकास हो, इसके लिए डॉक्टर गर्भावस्था में सही तरीके से सोने की सलाह देते है| हम आपको बता दे कि गर्भावस्था में गलत तरीके से सोने से आपके होने वाले बच्चे और आपपर बुरा असर पड़ सकता है| कई बार गर्भावस्था में पेट के बल सोने से बच्चे की गर्भ में मृत्यु हो जाती है| इसीलिए सोने के सही तरीको को ही अपनाये| अधिकतर महिलाओं को गर्भावस्था में सोने के सही तरीके क्या है, इसके बारे में जानकारी नहीं होती, इसीलिए वे नेट पर दिन भर गर्भावस्था में सोने के तरीके क्या होते है, ये सर्च करती रहती है|

इस पोस्ट में हम आपको गर्भावस्था में सोने के सही तरीको के बारे में बतायेगे| इन तरीको को अपनाकर आप और आपके गर्भ में पल रहा शिशु पूरी गर्भावस्था के दौरान आराम से सो पायेगे| इसीलिए अगर आप भी प्रेगनेंट है, और सोने के सही तरीको को तलाश रही है, तो यह पोस्ट आपके काम की है| तो चलिए जाने गर्भावस्था के दौरान किस प्रकार सोना चाहियें ?

गर्भावस्‍था में अच्‍छे से सोने के तरीके (Pregnancy Me Sone Ke Tarike)

बायीं करवट सोयें – गर्भावस्था के दौरान बायीं करवट लेकर सोने से यूट्रस, किडनी और गर्भ तक रक्त का प्रवाह सही तरीके से होता है| अधिकतर महिलाओं को पेट के बल सोने की आदत होती है, लेकिन इस आदत को गर्भावस्‍था के दौरान कभी ना अपनाये| पेट के बल सोने से रक्त का प्रवाह सही तरीके से नहीं होता, जिससे कारण बच्चे पर बुरा असर पड़ता है| डॉक्टर के अनुसार गर्भावस्‍था में बायीं करवट लेकर सोना सबसे बेस्ट है|

बायीं करवट लेकर सोने के फायदे

1. बायीं करवट लेकर सोने से आपके अंदरुनी अंगो पर दबाब बहुत कम पड़ता है, जो आपके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है|

2. बायीं करवट लेकर सोने से बच्चे और आपके बीच में रक्त का प्रवाह सही तरीके से होता है, जिसके कारण पेट में पल रहे शिशु को पोषण और ऑक्सीजन भरपूर मात्रा में मिलती है|

3. बायीं करवट लेकर सोने से बच्चे पर दबाब बहुत कम पड़ता है| जिससे बच्चा सुरक्षित रहता है|

4. बायीं करवट लेकर सोने से पेट में पल रहे शिशु को चोट लगने की संभावना कम होती है|

ये भी पढ़े – प्रेगनेंसी के मुख्य लक्षण
ये भी पढ़े – गर्भावस्था के दौरान सावधानियां

तकिया लेकर सोयें 

गर्भावस्था के दौरान आप सही तरीके से सोने के लिए पतले और मुलायम तकिये का इस्तेमाल कर सकती है| इस अवस्था में आप एक पतला तकिया अपनी टांगो के बीच रखकर एक और मुँह करके सो सकती है| अगर आप चाहे तो एक तकिया अपने पेट के निचे भी रख सकती है| जिस तरह से आपको आराम मिले और उस तरह तकिये का इस्तेमाल कर सकती है| तकिया लेकर सोने से नींद अच्छी आती है|

आजकल मार्किट में विशेष प्रकार के तकिये उपलब्ध है| ये तकिये विशेष रूप से गर्भावस्था के दौरान प्रेगनेंट औरतों के सोने के हिसाब से बनाये गए है| इन तकियो को फुल बॉडी प्रेग्नेंसी तकिये कहते है और ये तकिये आसानी से ऑनलाइन या ऑफलाइन मिल जाते है| ये तकिये विशेष प्रकार से डिज़ाइन किये जाते है| इन तकियो को लगाकर सोने से आप प्रेगनेंसी के दौरान होने वाली अनेक प्रकार की छोटी छोटी प्रॉब्लम से बच सकते है|

गर्भावस्था में कैसे ना सोएं 

गर्भावस्‍था के दौरान कभी भी पीठ के बल नहीं सोना चाहियें| पीठ के बल सोना आपके और आपके होने वाले बच्चे के लिए खतरनाक हो सकता है| गर्भावस्‍था के दौरान जब गर्भ का साइज बड़ा होता है, तब महिलाओं को पीठ के बल सोने से अनेक प्रकार की प्रॉब्लम का सामना करना पड़ता है, क्योंकि पीठ के बल सोने से गर्भाशय का पूरा भार आपकी पीठ पर पड़ने लगता है|

पीठ पर पूरा भार पड़ने पर गर्भवती महिलाओं को पेट दर्द, कब्ज, एसिडिटी, बबासीर और पैरो में ऐठन जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है| इसके साथ ही अनेक बार महिलाओं के शरीर में रक्त का परिसंचरण भी सही तरीके से नहीं हो पाता| गर्भावस्था के दौरान जब महिला के शरीर की रक्त वाहिकाओं में रक्त परिसंचरण सही तरीके से पाता, तो बच्चे के शरीर के अंगो में भी रक्त प्रवाह कम हो जाता है| जिससे माँ और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है|

गर्भावस्‍था में पीठ के बल सोने से नुकसान 

1. पीठ के बल सोने से पैरो में सूजन आ जाती है और पेट दर्द होने के चांस बढ़ जाते है|

2. पेट के बल सोने से प्लेसेंटा प्रिविया पर बुरा असर पड़ता है, जिसके कारण आपके बच्चे के शरीर में ऑक्सीजन और ब्लड सही तरीके से नहीं पहुँचता|

3. पीठ के बल सोने से आंतो और शरीर के अंदरूनी अंगों पर बुरा असर पड़ता है|

4. पीठ के बल सोने से गर्भाशय का पूरा भार रक्त धमनियों और रीढ़ की हड्डी पर पड़ता है|

इस पोस्ट में आपने गर्भावस्था में सोने के सही तरीको के बारे में जाना| हमें उम्मीद है, कि इन तरीको को अपनाकर आप गर्भावस्‍था में भी सही तरीके से पूरी नींद ले सकते है| आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी, कमेंट के माध्यम से जरूर बताये| कमेंट करने के लिए कमेंट बॉक्स का उपयोग करे| पोस्ट अच्छी लगने पर पोस्ट को शेयर करना ना भूले|

ये भी पढ़े –गर्भावस्था का तीसरा महीना
ये भी पढ़े – महिलाओ के लिए हेल्थ टिप्स

Disclaimer:- All content is good for health but you should take advice from Doctor before using them. We are not responsible for any harm.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × two =